कमी…

कमी…

20130811_080838

हवाएँ तो खिलाफ थीं ही..
और कुछ चाहत में शिद्दत की भी कमी थी

बेवफ़ाई आपकी फ़ितरत थी शायद..
और कुछ हम में सब्र की भी कमी थी

फासलों की आदत तो थी ही बढ़ने की..
और कुछ हमारे बीच इत्तिफ़ाक़ की भी कमी थी

बात बनती भी तो कैसे…
आप में आग और हम में इत्मिनान की कमी थी

अब…बस प्यार है…
और है ये उम्मीद की ये कर देगा पूरा
हर उस चीज़ को जिसकी भी कमी थी…

Haiku Prompt: Think & Free

Haiku Prompt: Think & Free

20130611_073057

thinking that I’m free

let my soul fly unfettered

from thoughts chaining me

Thinking that I’m free let my soul fly unfettered.

Let my soul fly unfettered from thoughts chaining me.

https://ronovanwrites.wordpress.com/2015/07/20/ronovanwrites-weekly-haiku-poetry-prompt-challenge-54-free-think/